संदेश

मार्च 7, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

वैलेंटाइन डे की कहानी, कब है, क्यों मनाया जाता है, मतलब क्या होता है(Valentine’s Day Date, Story, Kab Hai aur itihas Hindi)

चित्र
हेलो दोस्तों मैं हूं आपका दोस्त आर्यन मैं एक राइटर हूं जैसा कि आप सभी जानते हैं औऱ आज मैं बताने वाला हूँ कि Valentine day itna special क्यों हैं औऱ इसकी शुरुआत कब से शुरू हुआ ,औऱ साथ में जानेंगे कि  वैलेंटाइन डे क्यों मनाया जाता है, valentine का मतलब क्या होता है, सब कुछ इस पोस्ट के ज़रिए हम पढ़ेंगे...........😍❣️😘 दुनिया का हर बंधन प्यार से बना होता है, अगर प्यार न हो, तो जिन्दगी में खुशियाँ नहीं हो सकती, वैसे प्यार का इज़हार कभी वक्त या मुहूर्त देखकर नहीं किया जाता, प्यार बिन बोले ही बयाँ हो जाता है, प्यार अहसास का एक ऐसा समुंदर है, जिसमे अगर तूफ़ान भी आये, तो किसी को नुकसान नहीं पहुंचाता. प्यार त्याग, विश्वास की एक ऐसी डोर है, जिसे बस महसूस कर सकते है, जिसे शब्दों में पिरोना आसान नहीं.   ऐसे ही प्यारे अहसास को जब एक त्यौहार (Valentine’s Day) के रूप में मनाया जाता है, तब वह दिन एक यादगार दिन बन जाता है दीवाली ,  राखी ,  क्रिसमस ,  होली  जैसे सारे त्यौहार जब भी मनाये जाते है, उनसे अपनों के बीच प्यार और भी गहरा हो जाता है, प्यार को वैसे किसी विशेष दिन की जरुरत नहीं , ऐसे ही प्यार से भरा

इमोशनल लव स्टोरी-Emotional-love-story

चित्र
इमोशनल लव स्टोरी-🙏 हेलो दोस्तों, मैं हूं आर्यन आपका दोस्त और मैं आज लेकर आया हूं एक दिल को छू जाने वाली कहानी जिसे पढ़ कर आप अपनी भावनाओ को रोक नहीं पाओगे। Emotional love story -यह कहानी हैं एक लड़के की जो अपने गाँव से दूर पढ़ाई करने के लिए शेहर आता हैं। वो लड़का पढ़ने में काफ़ी तेज़ दिमाग था और साथ में अपने साथ ढेर सारे सपने सजाए हुए था। घर वाले को उससे बहुत सारी उम्मीदे जुड़ी हुई थीं की उसका बेटा लिख कर अपने पापा का नाम रौशन करेगा। लेक़िन उसी कॉलेज में पढ़ रही एक लड़की से उसे प्यार हो जाता हैं। अपने प्यार मैं अपने सपने और अपने पापा के उमीदें को भूल जाता हैं। पूरी दिन फ़ोन पे उस लड़की से बात करता और उसके बारे मैं सोचता रहता था। इधर आर्थिक-स्थिति ठीक न होने की वजह से उसके घर में खाने की कमी होने लगी और दिनों दिन उसके माँ-पापा बीमार होते चले गए। क्योंकि उन्हें सही से भोजन न मिल पाने की वजह से उनका हेल्थ और खराब होता चला गया। अपने बेटे से यही उम्मीद लगाए हुए थे की उनका बेटा पढ़ लिख कर उनका नाम रौशन करेगा और उन्हें अच्छे से रखेगा। लेक़िन वो कहतें हैं न इश्क़ का नशा इस कदर चढ़ता हैं कि वो सब कुछ भु