संदेश

मार्च 28, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आज कि मुलाकात ख़ास हैं-Aaj ki mulakaat khas hain love story in hindi

चित्र
हेलो दोस्तों मैं हूं आपका दोस्त आर्यन , मैं एक राइटर हूं और मैं सच्ची घटना पे आधरित कहानियां लिखता हूँ , मेरे ब्लॉग में आपका स्वागत है और आज मैं सुनाने जा रहा हूँ , अपने दिल के सबसे  क़रीब अपने जान ( रानी ) कि प्रेम कहानी, इस कहानी के हर शब्द में ज़िक्र होगा , जिसे मैंने अपने दिल में बसा रखा हूँ। तो शुरू करते हैं इस क्यूट सी प्रेम कहानी को...... आज सालों बाद उनकी एक झलक पाने कि दिल में तमन्ना हैं उन्हें देखें अरसो होगा उनसे मिलने को दिल बेक़रार हैं , उन्हें एक झलक देख लू दिल को सुकून आ जाइए....... आज ओ घड़ी आ गया हैं, जिनसे मिलकर अपने दिल कि हर के बात उनको बताऊंगा। दिल मैं जितने राज़ हैं, हर के राज़ उन्हें बताऊंगा, न जाने वो इतने दिनों बाद जब हम उनसे मिलेंगे तो हमें गले से लगेंगे या फ़िर हमें गले लाकर रो देँगे ....... मैं ये सब सोच सोच कर मन ही मन खुश होते जा रहा हूँ, उनके बारे में सोच कर मेरे दिल जोरों से धड़क रहा हैं, उनसे मिलने कि खुशी इतनी हैं कि जैसे बारिश आने से किसान खुश होता हैं। आज शाम कि ट्रैन हैं औऱ सफ़र लम्बी हैं , उनसे मिलने कि तमन्ना दिल में बढ़ती ही जा रही हैं...जैसे जैसे ये सफ़र

हार्ट टचिंग स्टोरी ऑफ़ मदर | Heart touching story of mother

चित्र
आपने आज तक आपने न जाने कितनी सारी स्टोरी सुनी और पढ़ी होगी आपने लेकिन मैं जो अपनो कहानी सुनाने जा रहा हूँ वो तो न सुनी होगी आपने और नहीं पढ़ी होगी।आज की कहानी आपके दिल को छू जिएगी। माँ का बलिदान  - READ यह कहानी हैं शहर में रहने वाले महेश की जो अपने माँ के साथ रहता था। उसके पिता जी के गुज़र जाने के बाद उसके घर के अर्थिक संतुलन खराब हो गया। उसकी माँ दुसरो के घरों में पूछा और झाड़ू लगाने का काम करती थीं। उससे जो भी चार-पाँच पैसे मिलते थे उससे वो अपना घर चालती थीं। महेश दिनभर अपने दोस्तों के साथ घूमता और पार्टी करता रहता था।  वो दिनभर घर से बाहर रह कर आयसि करता और जुआ खेलता। धीरे-धीरे वक़्त बीतता चला गया और उसकी बूढ़ी होती चली गई। उसकी माँ रोज़ महेश को कहती , बेटा अपने लिए एक अच्छा सा जॉब ले ले। लेकिन माँ की बातो को वो नज़र अंदाज कर देता। एक दिन की बात हैं कि महेश की माँ का तबियत काफ़ी ज्यादा खराब होगा। उस दिन वो किसी के घर काम करने नहीं गई। Heart touching story of father  -READ घर में पैसा न होने की वजह से महेश अपनी माँ का इलाज न करा पाया जिससे उसकी माँ का तबियत दिनों-दिन खराब होने की वज़ह से वो म

एक पिता की अपने बेटे के प्यार की कहानी

चित्र
कहानिया तो आपने इंटरनेट से पढ़ी और सुनि होगी लेकिन मैं जो आपको कहानी सुनाने जा रहा हूँ वो सबसे अलग और दिल को छू जाने वाली में से हैं। क्योंकि इस कहानी में इतना दर्द छुपा हैं कि आप अपने आँसुओ को रॉक नहीं पाओगें। बेजुबान इश्क़  - READ यह कहानी हैं दिल्ली शेहर में रहने वाली विवेक का जो अपने पिता का इकलौता बेटा था। वह अपने बुढ़े बाप का मात्र एक सहारा था। एक दिन कि बात हैं विवेक अपने घर से कॉलेज जा रहा था लेकिन रास्ते में सामने से आती तेज़ कार से उसका एक्सीडेंट हो जाता हैं। वह खून से लहु-लहान था। उसे झट से हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया। लेकिन विवेक की हालत और खराब होते जा रहा था।  इसे देखते हुए डॉक्टर ने तुरंत एक स्पेशिलिट डॉक्टर को तत्काल सर्जरी के लिए बुलाया , आने के बाद अस्पताल में प्रवेश किया। उसने कॉल का जवाब दिया, अपने कपड़े बदले और सीधे सर्जरी ब्लॉक में गया। उन्होंने डॉक्टर के इंतजार में लड़के के पिता को हॉल में खड़े पाया। अधूरे प्यार की प्रेम कहानी  - READ डॉक्टर को देखते ही, पिता चिल्लाया: “तुम्हे आने में समय क्यों लिया? क्या आप नहीं जानते कि मेरे बेटे का जीवन खतरे में है? क्या आपके पास