संदेश

सितंबर 18, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

प्यार की लव स्टोरी कहानी-Pyar ki ek kahani love story in hindi

चित्र
प्यार की लव स्टोरी कहानी-Pyar ki ek kahani love story in hindi दोस्तो! यह एक प्यार भरी मेरे जीवन की एक सच्ची दास्ताँ है, जिसने मुझे एक ऐसा शक्स दिया, जिसके लिये मैं कुछ भी करने को तैयार था. जो मेरे दिल की गहराईयों तक गयी, जिसके लिये मैं किसी और की तरफ भी नहीं देखता था! मैं एक लड़की से बहुत प्यार करता हूं। वह उसी कॉलेज की स्टूडेंट थी , जहां मेरे पापा पढ़ाते थे। यूं तो मैंने उसे कई बार देखा था , लेकिन एक बार वह मेरे सपनों में आकर कुछ ऐसी यादें दे गई कि आज भी मैं उसी सपने में जीना चाहता हूं। लेकिन मैंने इस बात पर बिल्कुल ध्यान नहीं दिया , क्योंकि मुझे ये इश्क-विश्क की बातें बड़ी ही अजीब लगती हैं। मैंने यह कभी नहीं सोचा कि आनेवाले दिनों में मैं उसे इतना चाहूंगा कि मेरा दिल और दिमाग , हर पल बस उसी की यादों में कैद रहेगा। कुछ दिनों बाद उसी कॉलेज का एक ग्रुप , विज़िट के लिए गया। मेरे कुछ दोस्त भी उसी क्लास में पढ़ते थे , जो मुझे भी साथ लेकर गए। पहले तो मैंने बहुत मना किया , लेकिन जैसे ही मुझे पता चला कि वह भी वहां आ रही है तो मैं तुरंत तैयार हो गया। उन आनेवाले दिनों ने मेरी सारी ज़िन्दगी

रुला देने वाली दर्द भरी प्रेम कहानी Real Life Love Story In Hindi

चित्र
रुला देने वाली दर्द भरी प्रेम कहानी Real Life Love Story In Hindi दोस्तो! यह एक प्यार भरी मेरे जीवन की एक सच्ची दास्ताँ है, जिसने मुझे एक ऐसा शक्स दिया, जिसके लिये मैं कुछ भी करने को तैयार था. जो मेरे दिल की गहराईयों तक गयी, जिसके लिये मैं किसी और की तरफ भी नहीं देखता था! सुबह का अखबार पढ़ते हुए अचानक मेरी निगाह अपनी नई पड़ोसन से जा टकराई। मैंने सुना तो था कि मेरे बगल वाले फ्लैट में कोई महिला अधिकारी शिफ्ट होने वाली है , पर यह हमारा पहला आमना - सामना था। हेलो - हाय से शुरू हुआ परिचय कब गहरा हो गया , पता ही नहीं चला। मेरी पड़ोसन मैडम , जिले में ही एक उच्च पद पर पदस्थ थीं और उनके पति किसी अन्य जिले में तैनात थे। उनके पति का आना - जाना कभी - कभार ही हो पाता था। पड़ोसी होने के कारण वह मुझसे काफी घुल - मिल गईं। एक दिन उन्होंने टोक ही दिया कि तुम मुझसे हमेशा मैडम कहकर बात मत किया करो। मैंने कहा , " मैडम मैं अभी एक विद्यार्थी हूं और आप इस जिले में तैनात एक वरिष्ठ अधिकारी , आखिर हमारा क्या रिश्ता हो सकता है ?" वह कुछ देर तक शान्त रहीं और फिर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए बोलीं कि अगर तुम