संदेश

दिसंबर 12, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आज कि मुलाकात ख़ास हैं-Aaj ki mulakaat khas hain love story in hindi

चित्र
हेलो दोस्तों मैं हूं आपका दोस्त आर्यन , मैं एक राइटर हूं और मैं सच्ची घटना पे आधरित कहानियां लिखता हूँ , मेरे ब्लॉग में आपका स्वागत है और आज मैं सुनाने जा रहा हूँ , अपने दिल के सबसे  क़रीब अपने जान ( रानी ) कि प्रेम कहानी, इस कहानी के हर शब्द में ज़िक्र होगा , जिसे मैंने अपने दिल में बसा रखा हूँ। तो शुरू करते हैं इस क्यूट सी प्रेम कहानी को...... आज सालों बाद उनकी एक झलक पाने कि दिल में तमन्ना हैं उन्हें देखें अरसो होगा उनसे मिलने को दिल बेक़रार हैं , उन्हें एक झलक देख लू दिल को सुकून आ जाइए....... आज ओ घड़ी आ गया हैं, जिनसे मिलकर अपने दिल कि हर के बात उनको बताऊंगा। दिल मैं जितने राज़ हैं, हर के राज़ उन्हें बताऊंगा, न जाने वो इतने दिनों बाद जब हम उनसे मिलेंगे तो हमें गले से लगेंगे या फ़िर हमें गले लाकर रो देँगे ....... मैं ये सब सोच सोच कर मन ही मन खुश होते जा रहा हूँ, उनके बारे में सोच कर मेरे दिल जोरों से धड़क रहा हैं, उनसे मिलने कि खुशी इतनी हैं कि जैसे बारिश आने से किसान खुश होता हैं। आज शाम कि ट्रैन हैं औऱ सफ़र लम्बी हैं , उनसे मिलने कि तमन्ना दिल में बढ़ती ही जा रही हैं...जैसे जैसे ये सफ़र

एक प्रेम कहानी उसके नाम-Very heart touching love story of Girl and boy 😭😭😔😔😍😍

चित्र
कहते हैं कि अगर प्यार जिस्म से नहीं दिल से किया गया हो तो फिर सारा कायनात उसे मिलाने में जुट जाता है। जी हां दोस्तों आज हम आपको ऐसे Real Life Love story सुनाने जा रहे हैं इस स्टोरी को सुनने के बाद आपकी आंखें जरूर भर आइएगा। आपसे आग्रह हैं कि इस स्टोरी को पूरा जरूर पढ़े..... तो चलिए बिना देर किए  शुरू करते हैं।  घर के हालात ही कुछ ऐसे थे की आधा घर किराये पर देना पड़ा. और किस्मत देखो की घर को किराये पर लेने आई दो लड़कियां. दोनों बहने थी. बड़ी बहनबेहद ही खूबसूरत थी और कॉलेज में पड़ती थी. छोटी अभी स्कूल में ही थी. स्टूडेंट्स होने की वजह से हमने उन्हें जल्दी से घर किराये पर दे दिया!  मैं भी उन दिनों कॉलेज में ही पड़ता था. उस उम्र के किसे भी लड़के की तरह, मेरी भी इच्छा थी की मैं दुनिया जीत लूँ. अपने नए पडोसी को देख के बहुत ही उत्साहित था पर बात करने की कभी हिम्मत नहीं हुई. लगता था कि, कोई और लड़का था उसकी जिंदिगी में. अपने मन को बार बार यह कह के समझाता था की यार, "वो तुझ से बड़ी है और वो कहाँ और तू कहाँ". उसकी खूबसूरती कुछ ऐसी की बस देखते रहो. धीरे धीरे मैं उस के कॉलेज आने-जाने का टा

मेरे बचपन की रोचक कहानियां जो आप सभी को पढ़ना चाहिए- A best story of childhood in hindi

चित्र
नमस्कार साथियों , मैं हूँ आपका दोस्त आर्यन आज हम अपने बचपन की कुछ मजेदार लम्हों जो आपके साथ शेयर करना चाहता हूं। बचपन के वो दिन जब भी याद आते हैं ना सच में एक अलग सा फीलिंग आता है कि वो भी क्या दिन थे। तो चलिए फिर शुरू करते हैं अपने बचपन की कुछ यादें को आपके साथ साझा करने की.....👨‍👨‍👦💏 इस कहानी की जो मुख्य किरदार है वह एक राइटर साहेब आर्यन जी और उनके दोस्त अंकित जो कि दोनों बहुत अच्छे दोस्त है। जो कि उनके कॉलेज फ्रेंड भी हैं...... इस कहानी की शुरुआत तब से होता है जब मैं बहुत छोटा था जब दिसंबर की छुट्टियों में अपने गाँवजाया करता था। खेतों से फसलें कट चुकी होती थीं। खेत वीरान दिखते थे। लोग खलिहानों में काम कर रहे होते थे। मैं अकसर दोपहर में घूमने निकलता था। अंकित मेरा दोस्त भी मेरे साथ होता था। गाँव में वह मेरा एकमात्र मित्र था। एक दिन नदी किनारे एक पेड़ के पास मैं अचानक रुक गया। सर उठाकर उस पेड़ को टकटकी लगाए देखने लगा। पेड़ में काफी घने जाले लगे हुए थे। पेड़ की पत्तियाँ भी कहीं-कहीं से सूखी हुई थीं। मैं कुछ पूछता उसके पहले ही अंकित भाग निकला। मैं कुछ समझ नहीं पाया। दूर जाकर उसने मु