संदेश

फ़रवरी 27, 2022 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

1942 a love story -1942 अ लव स्टोरी इन हिंदी

चित्र
1942 a love story -1942 अ लव स्टोरी इन हिंदी   हैल्लो दोस्तों मै हू आपका दोस्त आर्यन और आज हम इस पोस्ट में हम 1942 की लव स्टोरी को पढ़ेंगे जो बॉक्स ऑफिस पे सबसे हिट गए और जो सबके दिलों पे छा गए थी ये मूवी और इस फ़िल्म की बजट और बॉक्स ऑफिस कॉलेशक्शन के बारे में और साथ ही जानेंगे इस फ़िल्म से जुड़े कुछ अनसुने फैक्ट के बारे में भी , तो दोस्तों आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ना और अच्छा लगे तो ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों को शेयर करना .......  1942 a लव स्टोरी सं 1994 में आई एक रोमेंटिक , एक्शन , डर्मा फ़िल्म थीं। इस फ़िल्म में अनिल कपूर , जैकी सरेरोफ़ , मनीषा क्योरला , अनुपम खेर , डैनी डॉन जाम्बा , चांदीनी , आशिष विद्यार्थी , रघुबीर यादव , सुषमा सेठ और मनोहर सिंह आए थे , इस फ़िल्म को विधु विनोद चोपड़ा ने डायरेक्ट किया था , इस फ़िल्म की कहानी कामना चंद्र और विधु विनोद चोपड़ा ने लिखी थी। इस फ़िल्म की डायलॉग कामना चंद्र ने लिखी थीं , इस फ़िल्म को 200 स्क्रीन के साथ 15 अप्रैल 1994 में रिलीज़ किया गया था।                     1942 :- A Love Story  Directed by - Vidhu Vinod Chopra Written by - Sanjay Leela B

पहला प्यार का एहसास, जिसे देखने के बाद मेरा दिल बस उसका ही होगा 💔 Very sad love story

चित्र
हेलो दोस्तों मैं हूं आपका दोस्त आर्यन , मैं एक राइटर हूं और मैं कहानियां लिखता हूँ , मेरे ब्लॉग में आपका स्वागत है और आज मैं सुनाने जा रहा हूँ। पहला प्यार का एहसास, जिसे देखने के बाद मेरा दिल बस उसका ही होगा। न जाने वो आसमान की परी थीं या दिल चुराने वाली सहजादी , जो भी थीं आज उसने मेरा भी दिल चुरा लिया उसकी एक झलक ने........उसकी एक झलक ने मेरे दिल पे ऐसा जादू  किया कि बस मेरा दिल उसकी एक झलक देखने को  बेकरार हैं ......कौन थी वो , और कहा चली गई.....तो शुरू करते हैं अपनी लव स्टोरी को .....💔 आप सभी तो हमे जानते ही होंगे , में हूँ आर्यन और मैं राँची शेहर का रहने वाला हूँ , में अभी राँची  कॉलेज से ब.आ ( B.A ) कर रहा हूँ , हर बार कि तरह में आज भी अपने एग्जाम को लेकर काफ़ी एक्साइटेड था । मैं और मेरा दोस्त शामू , हम दोनों बाइक से जा रहे थे यूँ महकती हू खूबसूरत वादियों का आनंद लेते हू , आज मौसम भी रोमेंटिक लग रहा था। उसकी हर एक अद्दा जैसी बदन में बेचैनी सी मचा रही थीं  रास्तों का सफ़र इतना सुहाना था कि पता ही नहीं चला कब मैं अपना कॉलेज पहुँच गया , जैसे ही हम कॉलेज पहुँचे तो मेरा दोस्त अपनी बाइक